युद्ध में समझौता किस काम का ?

यह जो परमाणु केन्द्रों की सूची स्थान के साथ आदान-प्रदान की जाती है , यह कार्य तो स्वयं पे खतरा मोल लेने जैसा ही है। युद्ध में कोई भी शत्रु की पराजय चाहता है उसके वह सारे समझौते तोड़ देता है। हाँ ये बात तो सच्च है जो समझौता तोड़ता है उस अन्तर्राष्ट्रीय दबाव पड़ता हैं।

Popular posts from this blog

जेट-प्रवाह ( Jet Streams ) क्या है

उत्तर प्रदेश की प्रमुख फसलें कौन-कोन सी हैं

विभिन्न देशों के राष्ट्रीय पशु