Skip to main content

दूसरों के आदर्शों पे चलने से अच्छा स्वयं को आदर्श बनाओ

स्वामी जी कहते हैं अपना आदर्श लेकर उसे चरितार्थ करने का प्रयत्न करे। दूसरों के आदर्शों को लेकर चलने के अपेक्षा , जिनको वह पूरा कर नहीं सकता ,  उससे अच्छा उसे अपने आदर्शों को लेकर चलने से सफलता का अधिक निश्चित मार्ग मिलेगा।

Comments