Right To Education Act-2009 (RTE Act - 2009 ) में संशोधन को मंजूरी मिली

वर्ष 2009 में केंद्रीय सरकार ने 6 से 14 वर्ष के बच्चों के लिए निशुल्क व अनिवार्य शिक्षा के लिए right to education Act ( यानी Right of children to free and compulsory education Act-2009 ) लाया था। जो 1 अप्रैल 2010 से पूरे देश में लागू हुआ था ( जम्मू एंड कश्मीर को छोड़कर )।
इस एक्ट का उद्देश्य था , सभी वंचित बच्चों ( 6 वर्ष से 14 वर्ष तक ) को वर्ष 2015 तक प्राथमिक शिक्षा दिलाया जाए।
इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकार ने प्राथमिक के बच्चों को “ फेल न करने की नीति  ”अपनाई। जिसका परिणाम यह हुआ कि शिक्षा की गुणवत्ता में काफी गिरावट आई ।
इसी को देखते हुए केंद्रीय सलाहकार कमेटी ( कैब ) ने बच्चों को फेल न करने की नीति में बदलाव का सुझाव दिया था। जिसके तहत सरकार ने “ निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा अधिनियम 2009 ” में बदलाव किया है , जिसमें सरकारी स्कूलों में पांचवी और आठवीं कक्षा के बच्चों को अब वार्षिक परीक्षा देनी होगी। इस परीक्षा में फेल होने पर उन्हें एक मौका और दिया जाएगा।

Comments

Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश की प्रमुख फसलें कौन-कोन सी हैं

जेट-प्रवाह ( Jet Streams ) क्या है

विभिन्न देशों के राष्ट्रीय पशु